Pooja Goyal:

चंडीगढ़, 5 मार्च:

नशे और जुर्म के दलदल से बाहर आकर जिंदगी जिंदाबाद कहने वाले नामवर लेखक और पत्रकार मिंटू गुरसरिआ की स्वै जीवनी ‘डाकुआं दा मुंडा’ के बाद उसकी नयी पुस्तक ‘सूलां’ पर भी पंजाबी फिल्म ‘जीवन जिंदाबाद’ बनने जा रही है| इस फिल्म का पोस्टर आज यहां एक होटल में जारी किया गया। इस अवसर पर मिंटू गुरुसारी की पुस्तक ‘सूलां’ का भी प्रदर्शन किया गया। मिंटू गुरुसरिया के अलावा, निंजा, सुखदीप सुख, मैंडी तखर, स्मृति ग्रेवाल, निर्देशक प्रेम सिंह सिद्धू और फिल्म निर्माता मनदीप सिंह मन्ना, ऋतिक बंसल, अशोक यादव, राज कुमार, गौरव मित्तल, एसोसिएट डायरेक्टर विनोद कुमार, प्रोजेक्ट डिजाइनर सपन मनचंदा, ड्रेस डिजाइनर अमृत संधू और फिल्म से जुड़े अन्य लोग मौजूद थे।
‘कुकनस फिल्म्स’, ‘मैजिक प्रोडक्शंस’ और ‘मिलियन ब्रदर्स’ के बैनर तले बन रही इस फिल्म की घोषणा पर, फिल्म के लेखक मिंटू गुरुसरिया ने कहा कि यह फिल्म उन आधा दर्जन से अधिक युवाओं की कहानी है। , जिनके पास विभिन्न परिस्थितियां और पृष्ठभूमि हैं। दरअसल, यह कोई कहानी नहीं बल्कि कहानियों का एक सेट है, लेकिन इन कहानियों का परिणाम एक जैसा नहीं होता है। यह कहानी उन युवाओं की कहानी है, जो ड्रग सर्किल में तबाही के रास्ते पर हैं। इन परिणामों में से कुछ बर्बाद हो गए थे, लेकिन कुछ युवाओं ने सूलों की कमर तोड़ दी और न केवल मौत को मात दी, बल्कि समाज के मिथक को भी तोड़ दिया। यह कहानी हर वर्ग के लिए प्रेरणादायक होगी। इस फिल्म में नशे और अपराध की दुनिया में आने वाले पात्रों के युग के कारण भी बताया जाएगा।
इस फिल्म में बताया जाएगा कि जब हार होती है तो हार होती है। इस कहानी में कोई केंद्रीय चरित्र नहीं है लेकिन कहानी हर चरित्र पर केंद्रित है।
फिल्म में मिंटू गुरुसरिया का किरदार निभा रहे निंजा ने कहा कि फिल्म के पोस्टर ने ही बताया है कि वे इस फिल्म में किस अंदाज में नजर आएंगे। निन्जे के अनुसार वह मिंटू गुरुसरिया के जीवन के प्रभाव को स्वीकार करते है। यह उनके लिए गर्व की बात है कि वे एक ऐसे व्यक्ति का किरदार निभा रहे हैं, जो युवाओं के लिए प्रेरणा बने है। अभिनेता सुखदीप सुख एक युवा जग्गा बॉक्सर की भूमिका में दिखाई देंगे, जो क्षेत्र में एक प्रसिद्ध ड्रग एडिक्ट था, लेकिन फिल्म में मिंटू साथी होने से पहले वह एक राष्ट्रीय बॉक्सर था। फिल्म में मिंटू के साथी रहे दो सग्गे भाइयों की दिल को छू लेने वाली कहानी, प्रसिद्ध अभिनेत्री मैंडी तक्खर मिंटू की पत्नी के किरदार में पर्दे पर दिखाई देगी। फिल्म निर्देशक प्रेम सिंह सिद्धू के अनुसार, निर्देशक के रूप में यह उनकी दूसरी फिल्म है। उनके अनुसार, यह फिल्म केवल एक नाटक नहीं है, बल्कि एक वास्तविकता है, जिसका उपयोग कई युवा अपने जीवन का मार्गदर्शन करने के लिए कर सकते हैं। इस फिल्म को स्क्रीन पर पंजाबियों के एक स्वाभाविक रूप से स्वरूपित लेआउट में प्रस्तुत किया जाएगा। गौरतलब है कि यह फिल्म मिंटू गुरसरिआ की आत्मकथा पर आधारित है, जो ड्रगस की दलदल में बुरी तरह से धस गए थे। वह ड्रग्स लेने के साथ इलाके का कुख्यात लड़का था। जेल में बंद मिंटू गुरसरिआ इस दलदल से बाहर आये और न केवल खुद को जीवन दिया बल्कि हजारों लड़कों को भी रास्ता दिया। उनकी आत्मकथा, ‘डाकुआं दा मुंडा’ उनके जीवन पर आधारित थी, जिसे पाठको ने बहुत पसंद किया । अपनी नई पुस्तक ‘सूलां ‘ में, उन्होंने अपने जीवन की सभी साज़िशों और निडर कहानियों को बताया है, जो पिछली किताब में अधूरी रह गई थी। इस पुस्तक को प्रकाशित करने के अलावा, इस पर फिल्म बनना मिंटू के लिए एक बड़ा सम्मान होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here