चंडीगढ़ः गांधी स्मारक भवन सैक्टर-16 ए, चंडीगढ़ के सभागार में आज       ‘गुलदस्ता-ए-ग़ज़ल’ कार्यक्रम का आयोजन हुआ। इस अवसर पर स्वतंत्रता सेनानी वगांधीवादी नेता डॉ. गोपीचंद भार्गव को उनकी पुण्यतिथि पर याद किया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि दीपक धीमान, संपादक दैनिक भास्कर व अध्यक्षताके.के.शारदा, अध्यक्ष गांधी स्मारक निधि ने की। स्वागत, निदेशक डॉ. देवराज त्यागी और धन्यवाद आचार्यकुल के वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रेम विज ने किया।

            प्रसिद्ध गायिका कंचन भल्ला ने ग़ज़लकार अशोक भंडारी नादिर, प्रेम विज, चमन शर्मा चमन, केदार नाथ केदार, राजवीर राज, सतनाम सिंह,सरदारीलाल धवन और कुलवंत सिंह रफीक की ग़ज़लें प्रस्तुत कर श्रोताओं को वाह-वाह करने के लिए मजबूर कर दिया। प्रेम विज की ग़ज़ल को प्रस्तुत करते हुएकहा ‘छोड़के मुझको जा सकते हो, दिल से मेरे जाकर देखो’। श्रोता सुन कर वाह-वाह करने लगे।

            डॉ. भार्गव को याद करते हुए के.के.शारदा ने कहा कि डॉ. भार्गव ने स्वतंत्रता आंदोलन तथा बाद में संयुक्त पंजाब के मुख्यमंत्री रहते हुए खादी संस्थाओंकी स्थापना की तथा गांधी जी के सिद्धातों का प्रचार किया। प्रसिद्ध इतिहासकार डा. एम.एम.जुनेजा, श्री अरूण जौहर, ने भी अपने विचार व्यक्त किये। पंजाब मेंखादी एवं गांधीवादी संस्थाओं के जनक के रूप में डॉ. गोपीचंद भार्गव को याद किया जायेगा।

इस अवसर पर शम्स तबरेजी, नवीन नीर, प्रज्ञा शारदा, कंचन त्यागी, राज विज, पापिया चक्रवर्ती, रमेश बल, सुभाष गोयल एवं अन्य लोगों ने भाग लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here