वायु प्रदूषण को किया जा सकता है नियंत्रित

चंडीगढ़

वायु और ध्वनि प्रदूषण से बढ़ रहे ग्लोबल वार्मिंग से समाज को निजात दिलाने की दिशा में एक ऐसा उत्पाद तैयार किया गया हैजिससे  केवल वातावरण शुद्ध होगाबल्कि इस उत्पाद में एकत्रित कार्बन पार्टिकल को कई महत्वपूर्ण कामों में इस्तेमाल भी जा सकता है। इसे तैयार किया है दो युवाओं मनोज जेना और नितिन अहलूवालिया ने। भारत सरकार के स्टार्टअप इंडिया प्रोजेक्ट के तहत इन युवा दोस्तों ने ग्लोबल वार्मिंग से हो रहे प्रदूषण से निजात दिलाने की दिशा में एक ऐसे प्रोडक्ट को विकसित किया हैजिसे इंस्टॉल करने के उपरांत कुछ समय बाद  केवल वायु प्रदूषण नियंत्रित होता हैबल्कि तापमान में भी नियंत्रण देखने को मिलता है।

मनोज जेना के अनुसार वो और नितिन काफी लंबे अरसे से इस दिशा में कुछ करना चाहते थे। केन्द्र सरकार के स्टार्टअप इंडिया प्रोजेक्ट की शुरुआत के साथ ही उन्होंने अपने प्रोजेक्ट को अमलीजामा पहनाना शुरू कर दिया और जल्द ही इस प्रोजेक्ट को तैयार कर इसे बाजार में उतारने के भी प्रयास शुरू कर दिया। उन्होंने बताया कि वो अपने इस प्रोजेक्ट को पेटेंट करवाने की प्री अप्रूवल उन्हें मिल चुकी है।

नितिन आहलूवालिया ने बताया कि समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी और नेक कार्य मे अपना योगदान देने की सोच के चलते उन्होंने इसे तैयार किया है। वो दोनों पिछले से कुछ समय से सुनते  रहे थे की वायु प्रदूषण दिन व् दिन बढ़ रहा हैजिससे लोगों को सांस लेने में  केवल परेशानी  रही हैबल्कि वायु  प्रदूषण से बीमारियों से भी दो चार होना पड़ रहा है।  उनके इस प्रोजेक्ट/उत्पाद को निश्चित जगह पर इंस्टॉल करने के कुछ समय के बाद ही ये अपना असर दिखाना शुरू कर देता है। इससे उस क्षेत्र का  केवल प्रदूषण नियंत्रण में आता हैबल्कि तापमान में भी गिरावट देखने को मिलती है। इसके साथ ही इस उत्पाद में इकठ्ठी हुई कार्बन डाइऑक्साइड के पार्टिकल को कई महत्वपूर्ण कामों में इस्तेमाल भी किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here