पंचकूला , 7 नवंबर:
एक नई पहल करते हुए ओजस हॉस्पिटल, पंचकूला के हार्ट सर्जरी डिपार्टमेंट ने घोषणा की है कि मरीज की वित्तीय स्थिति कैसी भी हो, अस्पताल में जरूरतमंज मरीज की इलाज के खर्च करने की क्षमता के अनुसार उपचार का खर्च तय कर हार्ट सर्जरी की जाएगी और उसे जरूरी उपचार प्रदान करेगा।
डॉ.वीरेंद्र सरवाल, डायरेक्टर, कार्डियोथोरेसिक एंड वैस्कुलर डिपार्टमेंट ने बताया कि ओजस दिल की सर्जरी में आयुष्मान योजना को स्वीकार करने वाला ट्राइसिटी में पहला निजी अस्पताल है और अब तक हमने इस स्कीम के तहत 11 मरीजों की हार्ट सर्जरी की हैं।
अस्पताल ने हार्ट पेशॅन्ट के लिए 24 घंटे उपलब्ध रहने वाली हेल्पलाइन 8727066555 को भी लॉन्च किया है, जिस पर हार्ट मरीज एक्सपर्ट की एक टीम से अपने हार्ट रोग के संबंध में फ्री गाइडॅन्स प्राप्त कर सकते हैं।
जो मरीज ओजस अस्पताल में दिल की सर्जरी करवाते हैं, उन्हें लाइफ टाइम फ्री फॉलो-अप कंसल्टेशन भी मिलेगी। अस्पताल दिल से संबंधित बीमारियों पर एक फ्री सैकेंड ओपिनियन क्लीनिक भी चला रहा है, जिसमें सर्जरी के लिए साइंटिफिक सही राय ली जा सकती है।
ओजस मिनिमली इनवेसिव सर्जरी की नई तकनीक ला रहा है, जिसमें चेस्ट बोन को ना तो काटा जाता है और ना ही इसे ओपन किया जाता है।
डॉ.सरवाल जोकि सोसाइटी ऑफ थोरैसिस सर्जंस, अमेरिका के सदस्य भी हैं ने बताया कि हमने एंडोस्कोपिक वेन की हार्वेस्टिंग भी शुरू कर दी है, जहां एंडोस्कोप की मदद से नस की पूरी लंबाई निकालने के लिए केवल 2 छोटे कट्स की आवश्यकता होती है। अब टांगों में किसी बड़े कट को लगाने की जरूरत नहीं रह गई है।
ओजस के हार्ट सर्जरी विभाग में डॉ. अजय सिन्हा, हेड, कार्डिएक एनेस्थेसिया, डॉ.प्रवीण नायक, कंसल्टेंट कार्डिएक सर्जन और डॉ. खान, कंसल्टेंट क्रिटिकल केयर जैसे अनुभवी मेडिकल प्रोफेशनल्स की एक माहिर टीम है।
डॉ.सरवाल को 27 वर्ष का एडल्ट और पीडियाड्रिक कार्डिएक सर्जरी का विशाल अनुभव है। अब तक वे  7200 ओपन हार्ट सर्जरीज कर चुके हैं, जिनमें 4700 हार्ट सर्जरीज वे ट्राईसिटी में साल 2003 से लेकर अब तक कर चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here