चण्डीगढ़ 04 जूनः ( Pooja Goyal ):

नन्हे मुन्ने बच्चों द्वारा अनेक भाषाओं का सहारा लेते हुए यही कहा गया कि प्यार, नम्रता, करूणा, दया, सहनशीलता को अपनाना व इन्सानियत के रास्ते पर चलना ही हर इन्सान का कर्तव्य है क्योंकि इन गुणों को अपनाने के लिए आयु का कोई सम्बन्ध नहीं होता इसलिए इन बच्चों की ज़बान चाहे तोतली थी इनकी आयु भी कम थी लेकिन इनके द्वारा अनेक रूपों दिए गए सन्देश सत्गुरू माता सविन्दर हरदेव  जी महाराज द्वारा दी जा रही शिक्षाओं से भरपूर थे, ये उद्गार आज यहां सैक्टर 30-ऐ में स्थित सन्त निरंकारी सत्संग भवन में हुए संयोजक स्तर के बाल समागम की अध्यक्षता करते हुए स्थानीय संयोजक श्री नवनीत पाठक जी ने व्यक्त किए ।

इस बाल समागम मेें चंडीगढ़ ब्रांच के सैक्टर 15 एरिया, सैक्टर 30 एरिया, सैक्टर 40 एरिया, सैक्टर 45 एरिया, और मनीमाजरा एरिया से लगभग 1,500 बच्चों व श्रदालुओं ने हिस्सा लिया जिसमें 250 बच्चों ने अलग अलग टोपिक जैसे सम्पुर्ण हरदेव बाणी में से ग्रुप शब्द गायन प्रतियोगिता, सदगुरू बाबा हरदेव सिह की समाज को देन, नशा मुक्त जीवन, सादा शादियां , वृक्षारोपण एवं स्वच्छता अभियान, उŸाम चरित्र व व्यवहार, गीत, कविता, कव्वाली, स्किट आदि कई तरह की आईटम पेश की जिसके लिए बच्चे कई दिनों से तैयारी में जुटे थे । बच्चों द्वारा पेश की गई हर आईटम़ से केवल बच्चों को ही नहीं बल्कि बड़ों को भी निरंकारी मिशन के सिद्धान्त, गुरमत व इन्सानियत के मार्ग पर चलने के बारेे में जानकारी हासिल हुई ।

श्री पाठक जी ने कहा कि आज के बच्चे कल के राष्ट्र निर्माता हैं। यदि बच्चों में बचपन से ही झुकने के मार्ग व सहनशीलता व इन्सानियत के मार्ग पर चलाया जाए तो बड़े होकर यही बच्चे न केवल माता-पिता की सेवा करेंगे बल्कि एक आदर्श नागरिक बन कर समाज व देश के भी सेवक सिद्ध होंगे ।

इस अवसर पर श्री एस0 एस0 बंगा जी मुखी सेक्टर 15 एरिया, श्री एन0 के0 गुप्ता जी इंचार्ज एरिया सेक्टर 45, श्री पवन कुमार जी इंचार्ज एरिया सेक्टर 40, श्री मोहिन्दर सिहं जी  और अनेको पतवंते सज्जन भी उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here